आप यहां हैं:

प्रस्तावना

"भारतीय सौर ऊर्जा निगम लिमिटेड (सेकी)" नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण के अधीन एक केन्‍द्रीय सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम है, जिसकी स्‍थापना 20 सितम्‍बर, 2011 को जवाहरलाल नेहरू राष्‍ट्रीय सौर मिशन के कार्यान्‍वयन और उसमें निर्धारित लक्ष्‍यों को प्राप्‍त करने के लिए की गई थी। सौर ऊर्जा क्षेत्र को समर्पित यही अकेला केन्‍द्रीय सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम है। इसे मूल रूप में कम्‍पनी अधिनियम, 1956 के तहत धारा 25 (लाभ के लिए नहीं) कम्‍पनी के रूप में शामिल किया गया था।

तथापि, भारत सरकार के निर्णय के जरिए इस कम्‍पनी को हाल ही में कम्‍पनी अधिनियम, 2013 के तहत धारा 3 कम्‍पनी में परिवर्तित किया गया है। समस्‍त नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र को कवर करने के लिए कम्‍पनी के अधिदेश को भी व्‍यापक बनाया गया है।

नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र, विशेषतौर से सौर ऊर्जा के वर्तमान दृष्‍टिकोण में, इस क्षेत्र के विकास में सेकी की प्रमुख भूमिका है। यह कम्‍पनी नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के अनेक योजनाओं को कार्यान्‍वित करने के लिए जिम्‍मेदार है, जिनमें प्रमुख जेएनएनएसएम के अधीन बड़े पैमाने की ग्रिड सम्‍बद्ध परियोजनाओं के लिए वीजीएफ योजनाएं, सौर उद्यान योजना और ग्रिड सम्‍बद्ध सौर रूफटॉप योजना है और इनके साथ-साथ रक्षा योजना, कनाल-टाप योजना, भारत-पाक सीमा योजना आदि जैसी काफी अन्‍य विशेषीकृत योजनाएं हैं। इसके अलावा, सेकी ने अनेक सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के लिए टर्नकी आधार पर सौर परियोजना विकास का कार्य किया है। इस कम्‍पनी के पास विद्युत व्‍यापार लाइसेंस है और इसके द्वारा कार्यान्‍वित की जा रही योजनाओं के अधीन स्‍थापित परियोजनाओं से सौर विद्युत के व्‍यापार के जरिए इस क्षेत्र में यह सक्रिय है।